Breaking News
Home » मध्य प्रदेश » दमोह » चरनोई भूमि पर यदि कहीं अतिक्रमण है उसको हटायें – डॉ. जटिया

चरनोई भूमि पर यदि कहीं अतिक्रमण है उसको हटायें – डॉ. जटिया

चरनोई भूमि पर यदि कहीं अतिक्रमण है उसको हटायें - डॉ. जटिया
चरनोई भूमि पर यदि कहीं अतिक्रमण है उसको हटायें – डॉ. जटिया

जिले में 92 प्रतिशत बोनी हो चुकी है, धान का एरिया बचा है, बीज उपलब्ध है, यूरिया सभी जगह है, सभी एसडीएम देखवा लें पटवारियों से रिपोर्ट लें छिटका बोनी हुई है या नही।
इस आशय के निर्देश प्रभारी कलेक्टर डॉ. जगदीश जटिया ने साप्ताहिक समय-सीमा बैठक के दौरान जिले के सभी एसडीएम को दिये। उन्होंने कहा प्रधानमंत्री बीमा सुरक्षा योजना, मुख्यालय निवासी प्रमाण पत्र जब तक नहीं मिल जाते किसी भी कर्मचारी का वेतन देयक पारित नहीं करें, कोषालय अधिकारी इसे सुनिश्चित करायें। मीटिंग में जो अधिकारी नहीं आये हैं उन्हें शो-कॉज नोटिस जारी करने के निर्देश भी दिये। उन्होंने समयावधि पत्रों का त्वरित निराकरण करने के भी निर्देश सभी अधिकारियों को दिये। बैठक में संयुक्त कलेक्टर नंदा कुशरे, एसडीएम दमोह राकेश कुशरे, पथरिया एसडीएम नंदलाल सामरथ, हटा एसडीएम एस.के.अहिरवार, तहसीलदार मनोज श्रीवास्तव, लोक निर्माण विभाग के ई.ई. पी.एस.पंत सहित सभी विभागों के जिलाधिकारी मौजूद थे।
बैंक फार्म नहीं ले रहे हैं, नॉलेज में लाये
प्रभारी कलेक्टर डॉ. जटिया ने बीमा सुरक्षा योजना के फार्मो की चर्चा करते हुये कहा बैक को भेजे गये फार्मो की जानकारी लीड बैंक प्रबंधक बी.एल.राय को आवश्यक रूप से दें ताकि वे बैकर्स को फालो कर सकें। फार्म एक ही प्रकार का है जो सभी बैंकों में चलेगा, जो बैंक फार्म नहीं ले रहे हैं, नॉलेज में लाये। उन्होंने मण्डी में तुलावटी एवं उनके परिवार, मछली पालन की मछुआ समितियों, अनुसूचित जाति, जनजाति के छात्रावासों, महाविद्यालयों में फार्म भरवाने की बात कही। लीड बैंक प्रबंधक राय ने बताया अभी तक 20 प्रतिशत फार्म ही जमा हो पाये हैं, बैकर्स को फालो कर रहा हूं।
किसानों को जानकारी देने शिविर लगायें
प्रभारी कलेक्टर ने कृषि उपसंचालक बी.एल.कुरील से कहा किसानों को नई उन्नत तकनीक के बारे में किसानों को जानकारी देने शिविर लगायें। मसाला फसलों को भी देखें। उन्होंने अभाना में म.प्र.राज्य बीज एवं फर्म विकास निगम के लिये तथा जिले में दमोह को छोड़ शेष 6 विकासखण्डों में मृदा परीक्षण प्रयोग शाला कृषि विभाग द्वारा खोले जाने के लिये मण्डी प्रांगण, जनपद परिसर के आसपास जमीन आवंटित करने के निर्देश दिये।
प्रभारी कलेक्टर डॉ. जटिया ने कहा चरनोई भूमि पर यदि कहीं अतिक्रमण है उसको हटायें। ग्रामीण क्षेत्रों में स्टेडियम बनना है जमीन देखें कब्जा न हो, डीपीआर तैयार करायें। उन्होंने अधिकारियों से कहा आधार कार्ड से वोटर आईडी लिंक कराने की जानकारी मांगी गई थी अभी तक नहीं भेजी गई है, तत्काल भिजवाने निर्देशित किया गया।
बैरियर संकेतक लगवाये
डॉ.जटिया ने सभी सड़क मार्ग के जलमग्नी पुलों, लो लेबल के रपटों पर काशन बोर्ड और बैरियर लगवाने के निर्देश दिये। ई.ई.लोक निर्माण पी.एस.पंत ने बताया सभी स्थलों पर काशन बोर्ड और बैरियल के साथ कर्मचारियों को नियुक्त कर दिया गया है। प्रभारी कलेक्टर ने वन विभाग को जिले के वाटर फॉल क्षेत्रों में भी इसी तरह की कार्रवाई के निर्देश दिये।
दूध वितरण तीन दिवस
डॉ.जटिया ने बताया राज्य शासन के निर्देशानुसार दूध वितरण सप्ताह में तीन दिन किया जायेगा। हर ब्लाक में मास्टर ट्रेनर तैयार कर दिये गये हैं, यह दूध प्रायमरी शालाओं एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों में वितरित किया जायेगा, इसकी मानीटरिंग करें।
ब्लीचिंग घोल बनाकर कुएं में डालें
प्रभारी कलेक्टर ने कहा तमाम कुओं, चाहे वे कपिल धारा के हो, निर्मल नीर हों या निजी कुआं हों बाल्टी में माचिस की डिब्बी के बराबर ब्लीचिंग घोल बनाकर कुएं में डालें। उन्होंने जर्मकिल लिक्विड क्लोरीन की एक डिब्बी घोलकर हैण्डपम्पों में डालने के निर्देश दिये।
शासन द्वारा उपलब्ध कराया गया ओआरएस ही उपयोग करें
बैठक में डॉ.आर.के.बजाज ने बताया 27 मार्च से 3 अगस्त तक दस्तरोग पखवाड़ा मनाया जायेगा। पखवाड़े के दौरान बाल मृत्यु दर रोकने के लिये कार्य किया जायेगा। दस्त रोग के दौरान बच्चों को ओआरएस एक लीटर पानी में घोलकर 24 घण्टे पिलाया जा सकता है। उन्होंने कहा शासन द्वारा उपलब्ध कराया गया ओआरएस का ही उपयोग करें। 24 घण्टे होने के उपरांत दूसरा पैकेट घोलें। यह घोल 5 वर्ष से कम बच्चों को पिलाया जा सकेगा।
उन्होंने बताया शालाओं में हैण्डबास के बारे में बच्चों को बताया जाता है यह प्रक्रिया लगातार चालू रहना चाहिये। कुओं, हैण्डपम्प के पास कीचड़ न हो पाये इस बात का ध्यान रखें। आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्त्ता की मदद से कुओं में ब्लीचिंग पाऊडर हर हफ्ते में एक बार जरूर डलवायें। इसी प्रकार कुपोषण से बचाव के लिये 4 से 8 अगस्त तक अभियान चलाया जायेगा जिसमें अति कुपोषित बच्चों को एनआरसी में भर्ती कराया जायेगा। उन्होंने बताया सभी पीएचसी, सीएससी सेन्टरों तथा जिला चिकित्सालय में दवाईयां उपलब्ध है।

Check Also

निराश्रित नवजात बालिका के जैविक माता पिता

एक नवजात बालिका को बाल कल्याण समिति दमोह ने जिला चिकित्सालय दमोह में भर्ती कराया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × five =